Sale!
ISBN: 978-9387894044

Bharat ka Rakshak Maharaja Suheldev (Bharat Gaatha)

 399.00  379.00

Compare
Categories: ,
Edition:
Publisher:

Author:

Language:

Pages: 360

Description

ग़ज़नी के महमूद और उसके बर्बर तुर्क गिरोहों के लगातार हमलों ने भारत के उत्तरी इलाकों को कमज़ोर कर दिया था। हमलावरों ने उपमहाद्वीप के बहुत बड़े इलाके को बर्बाद करने के लिए छीना-झपटी, हत्या, बलात्कार और लूटपाट का सहारा लिया। कई पुराने भारतीय साम्राज्य, जो अब तक थक चुके थे और बंटे हुए थे, उन हमलावरों के सामने टिक नहीं सके। जिन्होंने युद्ध के पुराने नियमों के साथ लड़ाई की, वे जीत के लिए हर बार नियमों को तोड़ने वाली बर्बर तुर्क सेना को रोकने में नाकाम रहे। इसके बाद तुर्क देश के सबसे पवित्र मंदिरों में से एक—सोमनाथ में भगवान शिव के भव्य मंदिर—पर हमला करते हैं और उसे बर्बाद कर देते हैं।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Bharat ka Rakshak Maharaja Suheldev (Bharat Gaatha)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *