ISBN: 9789353676483

Bhartiya Arthvyavastha

 698.00

Compare
Category:
Edition:
Publisher:

Author:

Language:

Pages:

Description

पिछले दो-एक वर्षो में भारतीय अर्थव्यवस्था, विश्व की बडी अर्थव्यवस्थाओं में, सबसे तेज आर्थिक संवृद्धि प्रात्प करने वाली अर्थव्यवस्था बन कर उभरी है – चीन से भी आगे । यह अत्यन्त हर्ष का विषय है । परन्तु, जैसाकी भारत सरकार की ‘आर्थिक समीक्षा २०१५-१६’ में कहा गया है, “यदि विश्व अर्थव्यवस्था संकट की स्थिती में आ जाती है या और कमजोर हो जाती है तो भारत की आर्थिक संवृद्धि पर बहुत बुरा प्रभाव पडेगा, क्योंकि पिछले कुछ वर्षो में वैश्विक अर्थव्यवस्था के साथ भारतीय अर्थव्यवस्था की घनिष्ठता व सहसंबंध बढता जा रहा है ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Bhartiya Arthvyavastha”

Your email address will not be published. Required fields are marked *